HomeShare MarketPM Kisan की किस्त पाने से अधिक लौटाने की करें फिक्र, चेक...

PM Kisan की किस्त पाने से अधिक लौटाने की करें फिक्र, चेक करें ऐसे कहीं आपको तो वापस नहीं करने पड़ेंगे पैसे

PM Kisan Latest Update: पीएम किसान की 11वीं किस्त का इंतजार कर रहे किसानों को 15 मई से 31 मई के बीच में खुशखबरी मिल सकती है। पीएम किसान की अप्रैल-जुलाई 2022 की किस्त आने में इस बार काफी देर हो रही है, लेकिन गौर करने वाली बात ये है कि इस बार अपात्र किसानों को हर हाल में पहले से ली गई किस्त लौटानी पड़ेगी।

अगर आप जेल नहीं जाना चाहते हैं तो गलत तरीके से लिए गए पीएम किसान का पैसा वापस कर दें। इसके लिए सरकार ने पीएम किसान पोर्टल पर एक सुविधा दी है। आप ऑनलाइन पैसा रिफंड कर सकते हैं। इसके लिए आपको केवल यह करना है।

  • सबसे पहले https://pmkisan.gov.in/ पोर्टल पर जाएं।
  • दायीं तरफ छोट-छोटे बॉक्स बने हैं। सबसे नीचे आपको Refund Online का बॉक्स मिलेगा। इस पर क्लिक करें।
  • इसमें दो ऑप्शन दिखेंगे। पहला अगर आपने पीएम किसान का पैसा वापस कर दिया है तो पहले को चेक कर सबमिट बटन पर क्लिक करें अन्यथा दूसरे ऑप्शन का चेक कर सबमिट करें।
  • इसके बाद आधार नंबर, मोबाइल नंबर या बैंक खाता नंबर डालें। इमेज टेक्स्ट टसइप करें और गेट डेटा पर क्लिक करें। 
  • अगर आप पात्र हैं तो You are not eligible for any refund Amount यह मैसेज आएगा अन्यथा रिफ्ड अमाउंट शो करेगा।
  • संबंधित खबरें

    बता दें  उत्‍तर प्रदेश में पीएम किसान सम्मान निधि में बड़ा फर्जीवाड़ा सामने आया है। जांच और सत्यापन में अब तक तीन लाख 15 हजार 10 लाभार्थी अपात्र पाए गए हैं। इन्हें दी गई धनराशि की वसूली कराई जाएगी। 

    प्रदेश में अब तक 2.55 करोड़ किसानों को कम से कम एक बार पीएम किसान सम्मान निधि का लाभ मिल चुका है। इनमें से 6.18 लाख किसान ऐसे हैं जिनके डेटाबेस में उनकी आधार संख्या गलत दर्ज थी या आवेदन और आधार कार्ड में दर्ज नाम में भिन्नता है। ऐसे लोगों को अगली किस्त नहीं मिल सकी है। मुख्य सचिव ने कहा है कि कुछ का डेटाबेस सुधारा जा चुका है।

    कौन नहीं ले सकता है लाभ

    अगर परिवार में कोई टैक्सपेयर है तो इस योजना का लाभ उसे नहीं मिलेगा। परिवार का आशय पति-पत्नी और अवयस्क बच्चे से है। 

    जो लोग खेती की जमीन का इस्तेमाल कृषि कार्य की जगह दूसरे कामों में कर रहे हैं। 
    बहुत से किसान दूसरों के खेतों पर किसानी का काम तो करते हैं, लेकिन खेत के मालिक नहीं होते। 
    यदि कोई किसान खेती कर रहा है, लेकिन खेत उसके नाम नहीं है तो उसे इस योजना का लाभ नहीं मिलेगा। 
    अगर खेत उसके पिता या दादा के नाम है  तब भी वे इस योजना का फायदा नहीं उठा सकते।
    अगर कोई खेती की जमीन का मालिक है, लेकिन वह सरकारी कर्मचारी है या रिटायर हो चुका हो
    मौजूदा या पूर्व सांसद, विधायक, मंत्री उन्हें पीएम किसान योजना का लाभ नहीं मिलता। 
    प्रोफेशनल रजिस्टर्ड डॉक्टर, इंजिनियर, वकील, चार्टर्ड अकाउंटेंट  या इनके परिवार के लोग
    कोई व्यक्ति खेत का मालिक है, लेकिन उसे 10000 रुपये महीने से अधिक पेंशन मिलती है

    RELATED ARTICLES

    Most Popular