HomeShare MarketPetrol Price: पेट्रोल गुजरात से बिहार तक 100 के पार, मुंबई में...

Petrol Price: पेट्रोल गुजरात से बिहार तक 100 के पार, मुंबई में डीजल ने भी लगाया शतक

Petrol Diesel Price Today 30th March:पेट्रोल-डीजल के रेट में आज भी 80 पैसे का झटका लगा है।बुधवार को पेट्रोलियम कंपनियों ने ईंधन के नए रेट जारी किए तो अहमदाबाद से पटना और भोपाल से चेन्नई तक पेट्रोल 100 रुपये के पार चला गया। यहां  तक कि मुंबई में डीजल भी अब 100 रुपये से अधिक हो गया है।दिल्ली में पेट्रोल की कीमतों में 80 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी के बाद 101.01 रुपये प्रति लीटर के हो गई है। 

इस तरह 8 दिन में दिल्ली में पेट्रोल 5.60 रुपये महंगा हुआ है। वहीं, डीजल भी 5 रुपये 60 पैसे तक महंगा हुआ है। अब दिल्ली में एक लीटर पेट्रोल के लिए 101.01 रुपये और डीजल के लिए 92.27 रुपये खर्च करने पड़ेंगे।  इससे पहले 21 मार्च को राजधानी में पेट्रोल का दाम 95.41 और डीजल 86.67 रुपये प्रति लीटर था।

अभी और बढ़ेंगे पेट्रोल-डीजल के दाम! धीरे-धीरे होगा कीमतों में इजाफा

संबंधित खबरें

चुनाव के तुरंत बाद पेट्रोल-डीजल के लिए अपने वाहनों की टंकी फुल करवाने वालों को भले ही बहुत फायदा नहीं हुआ, लेकिन जिन्होंने गैलनों में तेल भरवाकर रख लिए आज वो चांदी काट रहे हैं। चुनाव 7 मार्च को खत्म हुए और पेट्रोल-डीजल की कीमतें बढ़नी शुरू हुईं 22 मार्च से। तेल कंपनियों ने 22 मार्च (24 मार्च को छोड़कर) से पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी जारी रखी है। 

ऐसे तरह चेक करें अपने शहर का रेट

आप भी अपने शहर के पेट्रोल-डीजल के दाम रोजाना SMS के जरिए भी चेक कर सकते है। इंडियन ऑयल (IOC) के उपभोक्ता RSP<डीलर कोड> लिखकर 9224992249 नंबर पर व एचपीसीएल (HPCL) के उपभोक्ता HPPRICE <डीलर कोड> लिखकर 9222201122 नंबर पर भेज सकते हैं। बीपीसीएल (BPCL) उपभोक्ता RSP<डीलर कोड> लिखकर 9223112222 नंबर पर भेज सकते हैं।

शहर का नाम
पेट्रोल रुपये/लीटर
डीजल रुपये/लीटर
श्रीगंगानगर
118.09
100.85
मुंबई
115.88
100.1
भोपाल
113.34
96.63
जयपुर
113.2
96.43
पटना
111.68
96.68
कोलकाता
110.52
95.42
चेन्नई
106.69
96.76
बेंगलुरु
106.46
90.49
रांची
104.22
97.42
दिल्ली
101.01
92.27
आगरा
100.63
92.17
लखनऊ
100.06
91.62
अहमदाबाद
100.7
94.9
चंडीगढ़
100.42
86.73
पोर्ट ब्लेयर
87.68
81.98

राजस्व नुकसान की भरपाई कर रहीं कंपनियां

तेल विपणन कंपनियां कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट के लाभों को तुरंत ग्राहकों को देने में सक्षम नहीं हो सकती हैं, क्योंकि वे पिछले राजस्व नुकसान की वसूली कर रहे । दो जानकारों ने नाम न छापने का अनुरोध करते हुए कहा कि राज्य द्वारा संचालित ईंधन विपणक और तेल मंत्रालय ने इस मामले पर एक प्रश्न का उत्तर नहीं दिया।

 

सार्वजनिक क्षेत्र की तेल कंपनियां ईंधन खुदरा बाजार का लगभग 90% नियंत्रित करती हैं। उन्होंने उत्तर प्रदेश सहित पांच राज्यों में विधानसभा चुनावों के साथ 4 नवंबर से 137 दिनों के लिए पेट्रोल और डीजल की दरों में दैनिक परिवर्तन को रोक दिया था। फ्रीज के दौरान, अंतरराष्ट्रीय तेल की कीमतें 7 मार्च को 139.13 डॉलर प्रति बैरल के शिखर पर पहुंच गईं, जो मतदान का आखिरी दिन था। 10 मार्च को चुनाव परिणाम घोषित किए गए और 22 मार्च से ईंधन की कीमतें बढ़ने लगीं।

RELATED ARTICLES

Most Popular