HomeShare MarketPawan Hans disinvestment: पवन हंस में सरकार ने बेची हिस्सेदारी, 211 करोड़...

Pawan Hans disinvestment: पवन हंस में सरकार ने बेची हिस्सेदारी, 211 करोड़ रुपये में खरीदेगी ये कंपनी

हेलीकॉप्टर सेवा देने वाली कंपनी पवन हंस लिमिटेड (पीएचएल) का खरीदार मिल गया है। सरकार ने अपनी 51 प्रतिशत हिस्सेदारी 211.14 करोड़ रुपये में स्टार9 मोबिलिटी प्राइवेट लिमिटेड को बेचने की मंजूरी दे दी है। अब पीएचएल का प्रबंधकीय नियंत्रण भी स्टार9 मोबिलिटी के ही पास रहेगा। आपको बता दें कि स्टार9 मोबिलिटी एक समूह है जिसमें बिग चार्टर प्राइवेट लिमिटेड, महाराजा एविएशन प्राइवेट लिमिटेड और अल्मास ग्लोबल ऑपरच्युनिटी फंड एसपीसी शामिल हैं।

तीन कंपनियों ने लगाई बोली: पवन हंस की 51 फीसदी हिस्सेदारी की बिक्री के लिए आरक्षित मूल्य 199.92 करोड़ रुपये तय किया गया था। पवन हंस की बिक्री के लिए सरकार को तीन कंपनियों से बोलियां मिली थी। इनमें से स्टार9 मोबिलिटी 211.14 करोड़ रुपये की बोली के साथ सबसे बड़ी बोलीकर्ता के रूप में सामने आई है। बाकी दो बोलियां 181.05 करोड़ रुपये एवं 153.15 करोड़ रुपये की थी।

वित्त मंत्रालय के मुताबिक, उचित विचार-विमर्श के बाद, मेसर्स स्टार9 मोबिलिटी प्राइवेट लिमिटेड की वित्तीय बोली को सरकार ने स्वीकार कर लिया है।

ये पढ़ें-LIC से भी बड़ा IPO लॉन्च करेंगे मुकेश अंबानी, Jio की शेयर बाजार में होगी एंट्री!

ओएनजीसी की हिस्सेदारी: आपको बता दें कि हेलीकॉप्टर सेवाएं देने वाली कंपनी पीएचएल, केंद्र सरकार और ओएनजीसी (ऑयल एंड नेचुरल गैस कॉरपोरेशन) का ज्वाइंट वेंचर है जिसमें उनकी हिस्सेदारी 51:49 अनुपात में है। हालांकि ओएनजीसी ने पहले ही कह दिया था कि वह रणनीतिक विनिवेश सौदे में चिह्नित सफल बोलीकर्ता को अपनी समूची हिस्सेदारी समान भाव एवं शर्तों पर दे देगी।

संबंधित खबरें

RELATED ARTICLES

Most Popular