HomeShare MarketLPG Price Today: मोदी सरकार में कितना बढ़ा एलपीजी सिलेंडर का दाम,...

LPG Price Today: मोदी सरकार में कितना बढ़ा एलपीजी सिलेंडर का दाम, देखें 2014 से अब तक के रेट

पेट्रोल-डीजल के साथ-साथ खाने-पीने की चीजें महंगी होने से त्रस्त जनता एलपीजी (LPG Cylinder Price Today) के बढ़ते दाम से भी परेशान है। अभी बीते 7 मई को घरेलू एलपीजी (LPG) सिलेंडर 50 रुपये और महंगा हो गया। इससे देश के अधिकतर शहरों में एलपीजी सिलेंडर का भाव 1000 रुपये के पार पहुंच गया तो कुछ शहरों में 1100 के करीब है। पिछले एक साल में दिल्ली में घरेलू एलपीजी सिलेंडर 809 रुपये से 999.50 रुपये पर पहुंच गया। 

कामर्शियल सिलेंडर 10 रुपये सस्ता 

सात मई को एलपीजी के रेट में बदलाव की वजह से घरेलू सिलेंडर जहां 50 रुपये महंगा हुआ तो वहीं, 19 किलो वाला कामर्शियल सिलेंडर करीब 10 रुपये सस्ता हुआ। हालांकि एक मई को इसमें करीब 100 रुपये का इजाफा हुआ था। वहीं, मार्च को 19 किलो वाले एलपीजी सिलेंडर की कीमत दिल्ली में केवल 2012 रुपये थी। 1 अप्रैल को यह 2253 और 1 मई को बढ़कर 2355 रुपये पर पहुंच गया। पिछले एक साल में कामर्शियल सिलेंडर के रेट में 750 रुपये की वृद्धि हुई है।

मोदी सरकार में कितना बढ़ा सिलेंडर का रेट

अगर मोदी सरकार के कार्यकाल की बात करें तो 1 जनवरी 2014 को दिल्ली में 14.2 किलो वाला नॉन-सब्सिडी घरेलू एलपीजी सिलेंडर 1241 रुपये में मिल रहा था। इसपर लोगों को सब्सिडी भी मिल रही थी। अब एलपीजी सिलेंडर पर सब्सिडी नहीं आ रही और कीमत 1000 रुपये हो गई है। बता दें सरकार पर सब्सिडी बोझ घटा है क्योंकि इस दौरान एलपीजी की खुदरा कीमतों में वृद्धि जारी रही। देश के 39 करोड़ से अधिक घरों के रसोई घरों में खाना पकाने के लिए एलपीजी का इस्तेमाल हो रहा है।

संबंधित खबरें

जनवरी 2014 से 7 मई 2022 तक के रेट

महीना
दिल्ली
कोलकाता
मुंबई
चेन्नई
7 मई 2022
999.5
1026
999.5
1015.5
22 मार्च 2022
949.5
976
949.5
965.5
1 फरवरी 2022
899.5
926
899.5
915.5
1 जनवरी 2022
899.5
926
899.5
915.5
1 दिसंबर 2021
899.5
926
899.5
915.5
1 नवंबर 2021
899.5
926
899.5
915.5
अक्टूबर 6, 2021
899.5
926
899.5
915.5
अक्टूबर 1, 2021
884.5
911
884.5
900.5
सितंबर 1, 2021
884.5
911
884.5
900.5
अगस्त, 18, 2021
859.5
886
859.5
875
अगस्त, 1, 2021
834.5
861
834.5
850
जुलाई 1, 2021
834.5
861
834.5
850
जून 1, 2021
809
835.5
809
825
मई 1, 2021
809
835.5
809
825
अप्रैल 1, 2021
809
835.5
809
825
मार्च 1 , 2021
819
845.5
819
835
फरवरी 25 , 2021
794
820.5
794
810
फरवरी 15 , 2021
769
795.5
769
785
फरवरी 4 , 2021
719
745.5
719
735
जनवरी 1 , 2021
694
720.5
694
710
दिसंबर 15 , 2020
694
720.5
694
710
दिसंबर 02 , 2020
644
670.5
644
660
नवंबर 01 , 2020
594
620.5
594
610
अक्टूबर 01 , 2020
594
620.5
594
610
अगस्त 01, 2014
920
964.5
947
922
जनवरी 1, 2014
1241
1270
1264.5
1234

अगर केवल गैर-सब्सिडी वाले सिलेंडर की बात करें तो अभी यह मनमोहन सरकार की तुलना में 241 रुपये सस्ता है। हालांकि, जिन्हें सिलेंडर पर करीब 300 से 400 रुपये सब्सिडी मिलती थी उनके लिए यह रेट बहुत अधिक है। अगर कामर्शियल सिलेंडर की बात करें तो एक जनवरी 2014 को दिल्ली में इसका रेट 2013.5 रुपये था और आज की तारीख में यह 2346 रुपये है। यानी करीब 8 साल में केवल 332 रुपये की वृद्धि।

रसातल में रुपया: अमेरिकी डॉलर के मुकाबले अब तक के सबसे निचले स्तर पर, जानें आपकी जेब पर क्या पड़ेगा प्रभाव

महीना
दिल्ली
कोलकाता
मुंबई
चेन्नई
7 मई 2022
2346
2445.5
2297.5
2499
1 मई 2022
2355.5
2455
2307
2508
1 अप्रैल 2022
2253
2351
2205
2406
22 मार्च 2022
2003
2087
1954.5
2137.5
मार्च 1, 2022
2012
2095
1963
2145.5
फरवरी 1, 2022
1907
1987
1857
2040
जनवरी 1, 2022
1998.5
2076
1948.5
2131
दिसंबर 1, 2021
2101
2177
2051
2234.5
नवंबर 1, 2021
2000.5
2073.5
1950
2133
अक्टूबर 1, 2021
1736.5
1805.5
1685
1867.5
सितंबर 1, 2021
1693
1770.5
1649.5
1831
अगस्त 18, 2021
1640.5
1719.5
1597
1778.5
अगस्त 1, 2021
1623
1701.5
1579.5
1761
जुलाई 1, 2021
1550
1629
1507
1687.5
जून 1, 2021
1473.5
1544.5
1422.5
1603
मई 1, 2021
1595.5
1667.5
1545
1725.5
अप्रैल 1, 2021
1641
1713
1590.5
1771.5
मार्च 1, 2021
1614
1681.5
1563.5
1730.5
फरवरी 25, 2021
1519
1584
1468
1634.5
फरवरी 15, 2021
1523.5
1589
1473
1639.5
February 4, 2021
1533
1598.5
1482.5
1649
01-Jan-2014
2013.5
2091.5
2134
2265

स्रोत: IOC 

बता दें सार्वजनिक क्षेत्र की तेल विपणन कंपनियों की तरफ से गैस सब्सिडी का भुगतान वित्त वर्ष 2021-22 के पहले नौ महीनों में घटकर सिर्फ 2,706 करोड़ रुपये रहा जबकि 2018-19 में यह 37,585 करोड़ रुपये था। सूचना के अधिकार कानून के तहत किए गए एक सवाल से यह जानकारी सामने आई है। 

आरटीआई के जवाब से पता चला है कि वर्ष 2018-19 में सार्वजनिक क्षेत्र की तीन तेल विपणन कंपनियों ने गैस सब्सिडी के मद मे 37,585 करोड़ रुपये का भुगतान किया था। चालू वित्त वर्ष में अप्रैल-दिसंबर के दौरान यह 2,706 करोड़ रुपये ही रहा है।

RELATED ARTICLES

Most Popular