HomeShare MarketIPO: इस हफ्ते कमाई के बड़े मौके, खुलेंगे 6000 करोड़ के आईपीओ

IPO: इस हफ्ते कमाई के बड़े मौके, खुलेंगे 6000 करोड़ के आईपीओ

शेयर बाजार में इस समय में एलआईसी के आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (आईपीओ) पर सबकी नजरें हैं। लेकिन निवेशकों को इस हफ्ते निवेश के तीन नए अवसर मिलने वाले हैं। इनमें प्रूडेंट कॉरपोरेट एडवाइजरी सर्विसेज, डेल्हीवरी और वीनस पाइप्स एंड ट्यूब्स लिमिटेड के आईपीओ शामिल हैं। इन आईपीओ का कुल आकार छह हजार करोड़ रुपये होगा। एलाआईसी के आईपीओ में हिस्सेदारी करने से चूक गए हैं तो इन आईपीओ में आपके लिए मौका बाकी है।

इनमें सबसे पहले प्रूडेंट कॉरपोरेट एडवाइजरी सर्विसेज का आईपीओ आएगा। ओपन होगा. यह आईपीओ 10 मई को खुलेगा जबकि डेल्हीवरी और वीनस पाइप्स एंड ट्यूब्स के आईपीओ 11 मई को खुलेंगे. प्रूडेंट कॉरपोरेट का आईपीओ साइज 538.61 करोड़ रुपये का है। जबकि वीनस पाइप्स एंड ट्यूब्स का आईपीओ 165.42 करोड़ रुपये और डेल्हीवेरी का आईपीओ 5,235 करोड़ रुपये का होगा।

एलआईसी के आईपीओ में गैर-संस्थागत निवेशकों की श्रेणी में पूरी बोली मिली

एलआईसी के आईपीओ में गैर-संस्थागत निवेशकों के लिए आरक्षित हिस्से को पूर्ण अभिदान मिल गया। निर्गम के तहत कुल 2,96,48,427 शेयरों को गैर-संस्थागत निवेशकों के लिए आरक्षित रखा गया था। इसकी तुलना में कुल 3,06,73,020 बोलियां मिल चुकी थीं। अभी इस निर्गम के बंद होने में एक दिन बाकी है। शेयर बाजारों से प्राप्त आंकड़ों के मुताबिक एलआईसी के आईपीओ को अब तक कुल 1.59 गुना अभिदान मिल चुका है।

संबंधित खबरें

हालांकि पात्र संस्थागत खरीदारों (क्यूआईबी) के लिए आरक्षित शेयरों का पूरी तरह खरीदा जाना बाकी है। इस खंड के शेयरों की अभी तक सिर्फ 0.67 फीसदी खरीदारी ही हुई है। खुदरा निवेशक खंड में 6.9 करोड़ आरक्षित शेयरों के लिए कुल 9.57 करोड़ बोलियां मिली हैं। इस तरह खुदरा निवेशक खंड को 1.38 गुना अभिदान मिल चुका है। एलआईसी के पॉलिसीधारकों के लिए आरक्षित खंड को 4.4 गुना और कर्मचारियों के लिए आरक्षित खंड को अब तक 3.4 गुना अभिदान मिला है।

विदेशी निवेशकों ने 6,400 करोड़ रुपये निकाले

विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) ने चालू महीने यानी मई के पहले चार कारोबारी सत्रों में भारतीय शेयर बाजारों से 6,400 करोड़ रुपये से अधिक की निकासी की है। बीते सप्ताह भारतीय रिजर्व बैंक और अमेरिकी केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व ने ब्याज दरों में बढ़ोतरी की, जिसका असर एफपीआई के रुख पर पड़ा है।

LIC IPO: रविवार को एलआईसी आईपीओ को 1.79 गुना सब्सक्रिप्शन मिला, कल तक लगा सकते हैं बोली

कोटक सिक्योरिटीज के इक्विटी शोध (खुदरा) प्रमुख श्रीकांत चौहान ने कहा, कच्चे तेल की ऊंची कीमतों, मौद्रिक रुख में सख्ती और अन्य कारकों से निकट भविष्य में एफपीआई के प्रवाह में उतार-चढ़ाव बना रहेगा। अप्रैल, 2022 तक लगातार सात महीने तक एफपीआई भारतीय बाजारों में शुद्ध बिकवाल रहे हैं और उन्होंने शेयरों से 1.65 लाख करोड़ रुपये से अधिक की निकासी की है। इसकी मुख्य वजह अमेरिकी केंद्रीय बैंक द्वारा ब्याज दरों में बढ़ोतरी की आशंका के बीच खराब होती भू-राजनीतिक स्थिति रही है।

इन आंकड़ों पर होगी बाजार की नजर

  • विदेशी निवेशकों की बिकवाली जारी रहने का बाजार पर असर होने की आशंका
  • कच्चे तेल के दाम और डॉलर के मुकाबले रुपये का उतार-चढ़ाव भी डालेगा असर
  • वैश्विक स्तर पर भी कई वृहद आर्थिक आंकड़े आने हैं
  • 11 मई को अमेरिका के मुद्रास्फीति के आंकड़े आने हैं
  • 12 मई को भारत के महंगाई और औद्योगिक उत्पादन के आंकड़े आने हैं
  • एसबीआई, टाटा मोटर्स, एलएंडटी, यूपीएल, टेक महिंद्रा और सिप्ला समेत कई कंपनियों के नतीजे आएंगे
     
  • RELATED ARTICLES

    Most Popular