HomeShare MarketGold Price Review: सोने के अभी और बढ़ेंगे भाव , ये हैं...

Gold Price Review: सोने के अभी और बढ़ेंगे भाव , ये हैं इसकी 5 वजह

भारत में सोना परंपरागत रूप से निवेशकों की पसंद रहा है। साल के शुरुआती चार माह में भी सोने ने निवेशकों को निराश नहीं किया है। जनवरी से अब तक सोना सात फीसदी का मुनाफा निवेशकों को दे चुका है, जबकि सेंसेक्स में इस अवधि में निवेशकों को करीब दो फीसदी का नुकसान हो चुका है। बाजार विशेषज्ञों का कहना है कि घरेलू मांग में तेजी और मौजूदा वैश्विक आर्थिक हालात को देखते हुए सोने में अभी और तेजी आ सकती है।

इन वजहों से और बढ़ सकते हैं सोने के दाम
1. रूस और यूक्रेन विवाद के लंबा खिचने से वैश्विक बाजारों पर असर
2. आईएमएफ द्वारा वैश्विक आर्थिक वृद्धि दर का अनुमान घटाना

3. फ्रांस में राष्ट्रपति चुनाव का यूरोप पर संभावित असर
4. घरेलू बाजार में मांग में तेजी

संबंधित खबरें

5. चीन में कोरोना के तेज प्रसार से वैश्विक बाजारों में फिर घबराहट

सोने में निवेश को तरजीह दे रही हैं म्यूचुअल फंड कंपनियां 

विशेषज्ञों का कहना है कि छोटी अवधि और लंबी अवधि दोनों में सोने में तेजी के संकेत दिखाई दे रहे हैं। उनका कहना है कि डॉलर सूचकांक 101 पर पहुंच चुका है जो अनुमान से अधिक है। यदि इसमें किसी तरह की बड़ी गिरावट आती है तो सोने में जोरदार तेजी आ सकती है। इसके अलावा अन्य कारक भी हैं जो सोने को नई ऊंचाई दे रहे हैं। अमेरिका में ब्याज दरें बढ़ रही हैं। जबकि महंगाई वहां पांच दशक के ऊंचे स्तर पर है। इसके बावजूद म्यूचुअल फंड कंपनियां भी सोने में निवेश को तरजीह दे रही हैं।

UPI सर्वर हुआ डाउन, अटक गए पेमेंट; सोशल मीडिया पर शिकायतों का अंबार

इससे भी सोने के दाम में तेजी आ रही है। विशेषज्ञों का कहना है कि सोना सुरक्षित निवेश के रूप में निवेशकों की पहली पसंद है और मौजूदा समय में वैश्विक राजनीतिक और आर्थिक हलचल अर्थव्यवस्था में अनिश्चितता का संकेत दे रही हैं। इसको लेकर सोने में निवेश बढ़ रहा है जिसका असर इसकी कीमतों पर हो रहा है। विशेषज्ञों का कहना है कि वैश्विक आर्थिक अनिश्चतता के बीच चीन में दोबारा कोरोना का संकट बढ़ने और रूस-यूक्रेन युद्ध के लंबी खिचने से भी निवेशकों का रुझान सोने पर अधिक है।

सोने में निवेश आगे भी फायदेमंद रहेगा

आईआईएफएफल के उपाध्यक्ष (कमोडिटी एवं करेंसी) अनुज गुप्ता ने हिन्दुस्तान को बताया कि आईएमएफ द्वारा वैश्विक आर्थिक वृद्धि का अनुमान घटाने से सुरक्षित निवेश के रूप में सोने पर निवेशकों का भरोसा एक बार फिर बढ़ा है। इसके अलावा रूस-यूक्रेन विवाद और भारत में विवाह सीजन में मांग तेज होने से भी सोने की कीमतें बढ़ रही हैं। गुप्ता का कहना है कि मौजूदा स्थिति को देखते हुए सोना दीवाली तक 55 हजार रुपये प्रति 10 ग्राम के स्तर को छू सकता है। उनका कहना है कि इसमें बड़ी गिरावट की फिलहाल कोई आशंका नहीं दिखाई दे रही है।
 

RELATED ARTICLES

Most Popular