HomeShare Marketसेबी ने बदल दिए IPO से जुड़े नियम, निवेशकों को मिलेगी नई...

सेबी ने बदल दिए IPO से जुड़े नियम, निवेशकों को मिलेगी नई तरह की सुविधा

आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (आईपीओ) में दांव लगाकर कमाई करना चाहते हैं तो ये खबर आपके लिए है। दरअसल, पूंजी बाजार नियामक सेबी ने आईपीओ के दौरान शेयर के लिये आवेदन और आवंटन को लेकर यूपीआई (यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस) के जरिये शुल्क भुगतान व्यवस्था को दुरुस्त बनाया है। इसके अलावा निवेशकों को एसएमएस और ईमेल के जरिए जानकारी भी दी जाएगी।

सेबी ने क्या कहा: यही नहीं, भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) ने स्व-प्रमाणित बैंकों के समूह (एससीएसबी) की तरफ से ‘अनब्लॉक’ सभी एएसबीए (एप्लिकेशन के जरिये ब्लॉक की गयी राशि) आवेदन के आंकड़े प्राप्त करने को लेकर नया रिपोर्टिंग प्रारूप निर्धारित किया है। सेबी ने एक सर्कुलर में कहा कि समय पर आवेदन राशि पर लगी रोक हटाने को लेकर एससीसीबी के कामकाज की समीक्षा और बाजार मध्यस्थों से मिले सुझाव के बाद नया प्रारूप लाया गया है।

सर्कुलर के अनुसार, एससीएसबी मर्चेन्ट बैंकर/निर्गम/निर्गमकर्ता पंजीयक के आग्रह के अनुसार सूचना देने के लिये जिम्मेदार होंगे। साथ ही प्रोसेसिंग शुल्क के दावे के बाद आवेदन राशि जारी करने में देरी होने पर क्षतिपूर्ति के लिये भी जिम्मेदार होंगे। नियामक ने कहा, ‘‘…एससीएसबी अगर सर्कुलर के प्रावधानों का अनुपालन नहीं करते हैं, उनके खिलाफ प्रतिभूति कानून के तहत कार्रवाई की जाएगी।’’

संबंधित खबरें

मैसेज से मिलेगी जानकारी: निवेशकों को मिलने वाले एसएमएस के संदर्भ में सेबी ने कहा कि सार्वजनिक निर्गम के लिये पात्र एससीएसबी/यूपीआई ऐप सभी एएसबीए आवेदनों के लिये निवेशकों को ‘एसएमएस अलर्ट’ भेजेंगे। साथ ही ई-मेल पर बिल भेज सकते हैं। यह अतिरिक्त सुविधा होगी, जिससे यूपीआई से जरिये भुगतान के बारे में पूरा ब्योरा होगा।

ये पढ़ें-मुकेश अंबानी की रिलायंस से डील पर Future Retail की बैठक, अमेजन कर रहा विरोध

एनपीसीआई का था प्रस्ताव: बता दें कि एनपीसीआई (भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम) ने सेबी को ई-मेल पर बिल भेजने का प्रस्ताव दिया था ताकि यह सुनिश्चित हो कि निवेशकों को सही समय पर सूचना मिले। एसएमएस के जरिये जो ब्योरा दिये जाने की जरूरत है, उसमें आईपीओ का नाम, आवेदन राशि और वह तारीख जिस दिन राशि पर रोक लगी थी, आदि शामिल हैं। यह प्रावधान तत्काल प्रभाव से अमल में आएगा। इस सर्कुलर के प्रावधान आईपीओ के लिये पेश विवरण पुस्तिका समेत पेशकश दस्तावेज का हिस्सा होंगे।

RELATED ARTICLES

Most Popular