HomeShare Marketसरकारी बैंक के निजीकरण की प्रक्रिया जारी, ये है पूरा प्लान

सरकारी बैंक के निजीकरण की प्रक्रिया जारी, ये है पूरा प्लान

सरकार के आईडीबीआई बैंक के निजीकरण की प्रक्रिया जारी है और प्रचार-प्रसार का काम खत्म होने के बाद हिस्सेदारी बिक्री की मात्रा तय की जाएगी। यह जानकारी निवेश एवं सार्वजनिक संपत्ति प्रबंधन विभाग (दीपम) के सचिव तुहीन कांत पांडे ने दी है।

पांडेय ने कहा, “आईडीबीआई बैंक में बेची जाने वाली हिस्सेदारी की मात्रा प्रचार-प्रसार खत्म होने के बाद पता चल जाएगी। उसके बाद अभिरुचि पत्र (ईओआई) की संरचना को अंतिम रूप दिया जाएगा। एक बात तो साफ है कि इसका प्रबंधकीय नियंत्रण सौंप दिया जाएगा जो अभी एलआईसी के पास है। जब हम ईओआई की संरचना तय कर लेंगे तो यह फैसला भी किया जाएगा कि कितनी इक्विटी पर प्रबंधकीय नियंत्रण तय किए जाए।”

समूची हिस्सेदारी पर फैसला संभव: सरकार आईडीबीआई बैंक में अपनी समूची हिस्सेदारी को एकबारगी या किस्तों में बेचने का फैसला कर सकती है लेकिन यह निवेशकों से मिलने वाले रुझान पर निर्भर करेगा। सरकार के पास इस बैंक की 45.48 फीसदी हिस्सेदारी है जबकि एलआईसी के पास 49.24 फीसदी हिस्सा है।

संबंधित खबरें

आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति ने मई 2021 में ही आईडीबीआई बैंक के रणनीतिक विनिवेश और प्रबंधकीय नियंत्रण के हस्तांतरण को सैद्धांतिक मंजूरी दे दी थी।

ये पढ़ें-पवन हंस में सरकार ने बेची हिस्सेदारी, 211 करोड़ रुपये में खरीदेगी ये कंपनी

इस विनिवेश का रास्ता बनाने के लिए आईडीबीआई बैंक अधिनियम में वित्त अधिनियम 2021 के जरिये जरूरी बदलाव किए जा चुके हैं। इसके अलावा अंतरण सलाहकार भी नियुक्त किए जा चुके हैं। 

RELATED ARTICLES

Most Popular