HomeShare Marketशेयर बाजार में गिरावट का सिलसिला जारी, सेंसेक्स 55000 के नीचे बंद

शेयर बाजार में गिरावट का सिलसिला जारी, सेंसेक्स 55000 के नीचे बंद

Share Market Closing: वैश्विक बाजारों में जारी बिकवाली के दबाव और घरेलू स्तर पर दिग्गज कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयरों में गिरावट की वजह से सोमवार को स्थानीय शेयर बाजारों में गिरावट का सिलसिला जारी रहा और मानक सूचकांक सेंसेक्स करीब 365 अंक और लुढ़क गया।

30 शेयरों वाला सूचकांक बीएसई सेंसेक्स कारोबार के अंत में 364.91 अंक यानी 0.67 प्रतिशत की गिरावट के साथ 54,470.67 अंक पर बंद हुआ। कारोबार के दौरान एक समय यह 917.56 अंक तक फिसलते हुए 53,918.02 अंक पर आ गया था। इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 109.40 अंक यानी 0.67 प्रतिशत गिरकर 16,301.85 अंक पर आ गया।

सुबह का कारोबार

शेयर बाजार में गिरावट का सिलसिला जारी है। सप्ताह के पहले कारोबारी दिन सोमवार को शेयर बाजार भारी गिरावट के साथ खुला। आज  बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का 30 शेयरों वाला प्रमुख संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 647 अंकों के नुकसान के साथ 54188 के स्तर पर खुला तो वहीं, निफ्टी ने भी कारोबार की शुरुआत भारी गिरावट के साथ की। 

संबंधित खबरें

शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 869.64अंकों की गिरावट के साथ 53,965.94  के स्तर पर कारोबार कर रहा था। वहीं, निफ्टी 259.10 अंकों की गिरावट के साथ 16,152.15 के स्तर पर कारोबार कर रहा था। सेंसेक्स पर पावरग्रिड को छोड़ सभी स्टॉक्स लाल निशान पर थे।

इस सप्ताह कैसी रहेगी शेयर बाजार की चाल

बीते सप्ताह बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 2,225.29 अंक या 3.89 प्रतिशत नीचे आया। वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के निफ्टी में 691.30 अंक या 4.04 प्रतिशत का नुकसान रहा। 

3 महीने में Paytm, Zomato और Welspun India ने निवेशकों को कर दिया कंगाल, 40.42 फीसद तक गिर गया शेयर भाव

“वैश्विक बाजारों का रुख, डॉलर इंडेक्स का उतार-चढ़ाव व कच्चे तेल के दाम बाजार को प्रभावित करते रहेंगे। इसके अलावा 11 मई को अमेरिका के मुद्रास्फीति के आंकड़े आने हैं, जबकि 12 मई को भारत के महंगाई और औद्योगिक उत्पादन के आंकड़े आने हैं। निश्चित रूप से बाजार की दृष्टि से ये आंकड़े महत्वपूर्ण रहेंगे।”,  संतोष मीणा, शोध प्रमुख , स्वस्तिका इन्वेस्टमार्ट 

 

वहीं, रेलिगेयर ब्रोकिंग के उपाध्यक्ष शोध अजित मिश्रा ने कहा, ”सबसे पहले बाजार रिलायंस इंडस्ट्रीज के तिमाही नतीजों पर प्रतिक्रिया देगा जिसकी घोषणा शुक्रवार को बाजार बंद होने के बाद हुई है। इसके अलावा रूस-यूक्रेन युद्ध और अन्य बाजारों का प्रदर्शन भी यहां असर डालेगा। वृहद आर्थिक मोर्चे पर 12 मई को औद्योगिक उत्पादन (आईआईपी) और उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति के आंकड़े आएंगे। बाजार की निगाह इन आंकड़ों पर रहेगी।” 

 सैमको सिक्योरिटीज में इक्विटी शोध प्रमुख येशा शाह ने कहा, ”वृहद आर्थिक आंकड़ों, तिमाही नतीजों के अलावा सप्ताह के दौरान कई आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (आईपीओ) भी खुलने जा रहे हैं। ऐसे में बाजार में अभी उतार-चढ़ाव कायम रहेगा। अमेरिका और चीन के मुद्रास्फीति के आंकड़ों से वैश्विक बाजारों का रुख तय होगा।”

जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा कि इस सप्ताह बाजार दुनियाभर के महंगाई के आंकड़ों पर प्रतिक्रिया देगा। वहीं, मीणा ने कहा कि बीते वित्त वर्ष की चौथी तिमाही के नतीजों की अब अंतिम खेप आना शेष है। इस वजह से कुछ शेयर विशेष गतिविधियां देखने को मिल सकती हैं। सप्ताह के दौरान एसबीआई, टाटा मोटर्स, एलएंडटी, यूपीएल, टेक महिंद्रा और सिप्ला जैसी बड़ी कंपनियां तिमाही नतीजों की घोषणा करेंगी।

RELATED ARTICLES

Most Popular