HomeShare Marketभारतीय शेयरों पर लट्टू हुए विदेशी निवेशक: 5 दिन में खरीद डाले...

भारतीय शेयरों पर लट्टू हुए विदेशी निवेशक: 5 दिन में खरीद डाले ₹14,000 करोड़ के शेयर, इन सेक्टर के शेयरों पर दांव

FPI buy indian stocks: भारतीय शेयर बाजारों में पिछले महीने तक लगातार बिकवाली के बाद अब आखिरकार विदेशी निवेशक वापस लौटने लगे और भारतीय शेयरों में निवेश करने लगे। पिछले महीने जुलाई में अच्छी खासी खरीदारी के बाद विदेशी निवेशकों ने भारतीय इक्विटी पर अपना सकारात्मक रुख जारी रखा और डॉलर इंडेक्स में नरमी के बीच अगस्त के पहले सप्ताह यानी 1 अगस्त से 5 अगस्त तक कारोबारी दिन में 14,000 करोड़ रुपये से अधिक का निवेश किया। यह पूरे जुलाई में विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (FPI) द्वारा किए गए लगभग ₹5,000 करोड़ के निवेश से कहीं अधिक था, जैसा कि डिपॉजिटरी के आंकड़ों से पता चलता है।

9 महीने में ₹2.46 लाख करोड़ की बिक्री
एफपीआई ने लगातार नौ महीनों के भारी बिकवाली के बाद जुलाई में खरीदार बने थे। अक्टूबर 2021 और जून 2022 के बीच विदेशी निवेशकों ने भारतीय इक्विटी बाजारों में बड़े पैमाने पर ₹2.46 लाख करोड़ की बिक्री की। यस सिक्योरिटीज के इंस्टीट्यूशनल इक्विटीज के लीड एनालिस्ट हितेश जैन ने कहा कि अगस्त के दौरान एफपीआई प्रवाह सकारात्मक रहने की उम्मीद है क्योंकि रुपये के लिए सबसे खराब स्थिति खत्म हो गई है और कच्चे तेल की कीमत एक सीमा में सीमित है।

यह भी पढ़ें- ₹3100 के पार जा सकता है टाटा ग्रुप का यह शेयर, बंपर तिमाही नतीजों के बाद बिग बुल के इस स्टॉक पर ब्रोकरेज ने बढ़ाया टारगेट   

क्या कहते हैं एक्सपर्ट?
डिपॉजिटरी के आंकड़ों के मुताबिक, एफपीआई ने अगस्त के पहले सप्ताह में भारतीय इक्विटी में ₹14,175 करोड़ की शुद्ध राशि का निवेश किया। एफपीआई रणनीति में बदलाव ने हालिया बाजार रैली को मजबूती प्रदान की है। जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के चीफ इनवेस्टमेंट स्ट्रैटेजिस्ट वी के विजयकुमार ने कहा, “डॉलर इंडेक्स में पिछले महीने के 109 के उच्च स्तर से 106 से नीचे अब एफपीआई प्रवाह का प्रमुख कारण है। यह प्रवृत्ति जारी रह सकती है।”

यह भी पढ़ें- ₹1 और ₹2 के इस शेयर ने 1 लाख के निवेश को बना दिया ₹6 करोड़, दिया 61,775% तक का छप्परफाड़ रिटर्न

इन सेक्टर के शेयरों में हो रही खरीदारी
वी के विजयकुमार ने कहा कि भारतीय इक्विटी बाजारों में हालिया सुधार ने भी खरीदारी का अच्छा अवसर प्रदान किया है और एफपीआई हाई क्वालिटी वाली कंपनियों को चुनकर इसका फायदा उठा रहे हैं। एफपीआई कैपिटल गुड्स, एफएमसीजी, निर्माण और बिजली जैसे सेक्टर के शेयरों पर मेहरबान हैं। इसके अलावा, एफपीआई ने समीक्षाधीन महीने के दौरान डेबिट मार्केट में ₹ 230 करोड़ की शुद्ध राशि डाली।
 

RELATED ARTICLES

Most Popular