HomeShare Marketपेट्रोल और डीजल के रेट में होगा फिर इजाफा? कच्चे तेल की...

पेट्रोल और डीजल के रेट में होगा फिर इजाफा? कच्चे तेल की कीमतों में बड़ी उछाल 

यूरोपीय यूनियन (EU) के फैसले के बाद इंटरनेशनल मार्केट में कच्चे तेल की कीमतों में इजाफा देखने को मिला। सोमवार को यूरोपीय यूनियन के नेताओं ने रूस को बड़ा झटका देते हुए 2022 के अंत रूसी तेल के आयात को कम करने पर सहमति जताई है। जिसके बाद मंगलवार को कच्चे तेल की कीमतों में बड़ी उछाल देखने को मिली। ऐसे यह सवाल खड़ा हो गया है कि क्या आने वाले दिनों में भारत में एक बार पेट्रोल और डीजल की कीमतों इजाफा देखने को मिलेगा? 

यह भी पढ़ें: महंगाई की मार से मिली लोगों को राहत! आटा और चावल हुआ सस्ता

122 डाॅलर प्रति बैरल तक पहुंचा दाम 

समाचार एजेंसी राॅयटर्स के अनुसार, मंगलवार को ब्रेंट क्रूड का दाम 33 सेंट्स की उछाल के साथ 122 डाॅलर प्रति बैलर को पार गया। यूएस वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट (WTI) में यह शुक्रवार को 117.31 डाॅलर प्रति बैरल पर कारोबार कर रहा था। अमेरिका सोमवार को सार्वजनिक छुट्टी की वजह से कोई समझौता नहीं हो सका था। बता दें, अमेरिकी और यूरोपीय ग्रीष्मकालीन ड्राइविंग सीजन की वजह से पहले मांग और सप्लाई के बीच तनावपूर्ण स्थिति बनी हुई है। 

EU का क्या है पूरा फैसला? 

यूरोपीय संघ की कार्यकारी शाखा की प्रमुख उर्सुला वॉन डेर लेयेन ने कहा कि दंडात्मक कदम ”वर्ष के अंत तक रूस से ईयू के लिए तेल आयात में प्रभावी रूप से लगभग 90 प्रतिशत की कटौती करेगा।” प्रतिबंध में समुद्र के रास्ते लाया जाने वाला रूसी तेल भी शामिल है, जिससे पाइपलाइन द्वारा आयात के लिए अस्थायी छूट भी मिलती है। इस फैसले पर आम सहमति के लिए हंगरी की मंजूरी महत्वपूर्ण थी।

संबंधित खबरें

कमीशन में वृद्धि नहीं किए जाने के विरोध में आज ईंधन नहीं खरीदेंगे पेट्रोल पंप डीलर

पेट्रोल पंप डीलरों के एक संगठन ने पेट्रोलियम विपणन कंपनियों द्वारा उनके कमीशन में बढ़ोतरी नहीं किए जाने के विरोध में मंगलवार को पेट्रोल और डीजल की खरीद नहीं करने का फैसला किया है। हालांकि, पेट्रोल पंपों के टैंक में काफी भंडार रहता है, इसलिए पेट्रोल और डीजल की आपूर्ति में किसी तरह की बाधा आने की आशंका नहीं है।

क्या पेट्रोल और डीजल की कीमतों में होगा इजाफा?

अगर इंटरनेशनल मार्केट में कच्चे तेल की कीमतों में इजाफा लगातार होता रहा तो भारत में भी इसका असर आने वाले दिनों में देखने को मिल सकता है। हाल ही में केन्द्र सरकार ने एक्साइज ड्यूटी में कटौती कर पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दाम से राहत देने के लिए लोगों को राहत दी थी। लेकिन कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों ने एक बार फिर चिंताएं बढ़ा दी हैं। 

RELATED ARTICLES

Most Popular