HomeShare Marketपंजाब नेशनल बैंक ने आज से बदल दिया नियम, जिसे जानना आपके...

पंजाब नेशनल बैंक ने आज से बदल दिया नियम, जिसे जानना आपके लिए बेहद जरूरी

PNB Rule Change from 4 April: पंजाब नेशनल बैंक यानी PNB आज से पॉजिटिव पे सिस्टम (Positive Pay system- PPS) लागू कर दिया है। PNB की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक  4 अप्रैल 2022 से चेक भुगतान (Cheque payment) के लिए वेरिफिकेशन जरूरी होगा। बता दें कि इस नियम के बाद अगर कंफर्मेशन नहीं हुआ तो चेक वापस भी किया जा सकता है। 


PNB ने अपने ऑफिशियल ट्विटर हैंडल पर इस बारे में ट्वीट किया है। बैंक ने कहा है,  “4 अप्रैल 2022  से पॉजिटिव पे सिस्टम प्रणाली अनिवार्य होगी। यदि ग्राहक बैंक ब्रांच या डिजिटल चैनल के जरिए 10 लाख रुपये और उससे ऊपर चेक जारी करते हैं तो PPS कंफर्मेशन अनिवार्य होगा। ग्राहकों को अकाउंट नंबर, चेक नंबर, चेक अल्फा, चेक डेट, चेक अमाउंट और लाभार्थी का नाम देना पड़ेगा।” अधिक जानकारी के लिए पीएनबी के ग्राहक इस नंबर 1800-103-2222 या 1800-180-2222 पर कॉल कर सकते हैं। या फिर बैंक की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

SBI, BoB समेत बैंकों में लागू है ये नियम 

संबंधित खबरें

इससे पहले SBI, BoB, BOI, Axis Bank, एचडीएफसी बैंक, आईसीआईसीआई बैंक समेत अन्य बैंक इस सिस्टम को अनिवार्य करने चुका है। आइए जानते हैं किस बैंक में कितने के चेक पर पॉजिटिव पे सिस्टम लागू हो रहा है। 

1. SBI: भारतीय स्टेट बैंक ने एक जनवरी 2021 से चेक पेमेंट के लिए नया सिस्टम लागू कर दिया है। एसबीआई ने 50,000 रुपये से ज्यादा के चेक भुगतान के लिए इसे लागू किया हुआ है यानी पचास हजार से ज्यादा चेक काटने पर आपको दोबारा कंफर्म करने की आवश्यकता होगी।  2. BoB: बैंक ऑफ बड़ौदा के चेक क्लीयरेंस (Positive Pay Confirmation) से जुड़े नियम 1 फरवरी से प्रभावी हैं। BoB का यह नियम 10 लाख या इससे अधिक की रकम के चेक पर लागू हैं। 3. Bank of India (BOI): बैंक ऑफ इंडिया का चेक संबंधित यह नियम 1 जनवरी 2021 से प्रभावी हैं। BOI में आपको 50,000/- रुपये और उससे अधिक के चेक क्लीयरेंसके लिए कंफर्मेशन अनिवार्य है। कस्टमर को Drawers Account Number, चेक नंबर, चेक तारीख, रकम और Payee’s Name समेत जानकारी देनी होगी।
 

क्या है पॉजिटिव पे सिस्टम?

पॉजिटिव पे सिस्टम एक प्रकार से फ्रॉड को पकड़ने वाला टूल है। इस सिस्टम के तहत कोई भी जब चेक जारी करेगा तो उसे अपने बैंक को पूरी डिटेल देनी होगी। इसमें चेक जारी करने वाले को SMS, इंटरनेट बैंकिंग, एटीएम या मोबाइल बैंकिंग के जरिए इलेक्ट्रॉनिकली चेक की डेट, बेनेफिशियरी का नाम, अकाउंट नंबर, कुल अमाउंट और अन्य जरूरी जानकारी बैंक को देनी होगी। इस सिस्टम से चेक से पेमेंट जहां सुरक्षित होगा, वहीं क्लियरेंस में भी कम समय लगेगा। इसमें जारी किए गए फिजिकल चेक को एक जगह से दूसरी जगह घूमना नहीं पड़ता है। यह काफी आसान और सुरक्षित प्रोसेस है।

RELATED ARTICLES

Most Popular