HomeShare Marketडॉली खन्ना ने इस मल्टीबैगर स्टॉक पर लगाया बड़ा दांव, खरीदे 10...

डॉली खन्ना ने इस मल्टीबैगर स्टॉक पर लगाया बड़ा दांव, खरीदे 10 लाख नए शेयर, महीनेभर में 118% का रिटर्न

Dolly Khanna portfolio stock: रिफाइनरी स्टॉक, चेन्नई पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन (CPCL) ने दो कारोबारी दिन में दो बार 10% की ऊपरी सर्किट को हिट किया है। आज इंट्रा डे में कंपनी के शेयर 4.44% ऊपर चढ़कर 291.65 रुपये पर पहुंच गए। दिग्गज निवेशक डॉली खन्ना ने इस शेयर पर बड़ा दांव लगाया है। दिग्गज निवेशन ने गुरुवार 28 अप्रैल 2022 को NSE पर ओपन मार्केट में बल्क डील के जरिए 1 मिलियन शेयर यानी की 10 लाख शेयर खरीदे हैं। बल्क डील के आंकड़ों के अनुसार, खन्ना ने ₹263.15 की कीमत पर शेयर खरीदे हैं। 

इस शेयर ने दिया मल्टीबैगर रिटर्न
चेन्नई पेट्रोकेमिल के शेयर (Chennai Petroleum Corporation Limited) ने पिछले एक महीने में 118.23% का रिटर्न दिया है। यह शेयर महीनेभर में 133 रुपये से बढ़कर 290.65 रुपये पर पहुंच गया। वहीं, इस साल इस शेयर ने अब तक 182.14% का रिटर्न दिया है। पिछले एक साल में इस शेयर ने 169.49% का जबरदस्त रिटर्न दिया है। 

यह भी पढ़ें- टाटा ग्रुप की इन दो कंपनियों का होने जा रहा है विलय, जानें शेयरधारकों का क्या होगा?

कौन हैं डॉली खन्ना?
डॉली खन्ना चेन्नई की एक निवेशक हैं, जो ऐसे मिडकैप और स्मॉलकैप शेयरों को चुनने के लिए जानी जाती हैं जिसे बहुत लोग नहीं जानते यानी कम फेमस शेयर होते हैं। वह 1996 से शेयरों में निवेश कर रही हैं। डॉली खन्ना का पोर्टफोलियो उनके पति राजीव खन्ना मैनेज करते हैं। डॉली खन्ना के पोर्टफोलियो में ज्यादातर मैन्युफैक्चरिंग, टेक्सटाइम, केमिकल और शुगर शेयर शामिल हैं।

संबंधित खबरें

चेन्नई पेट्रोलियम में निवेश की वजह
एक्सपर्ट द्वारा अनुमान के मुताबिक, मार्च 2022 तिमाही के लिए कंपनी ने एक साल में चार गुना उछाल दर्ज किया है। इसी तिमाही के दौरान, शुद्ध बिक्री 88% साल-दर-साल (YoY) बढ़कर 164.1 अरब रुपये हो गई, जो पिछले साल की तिमाही में 87.4 अरब रुपये थी। कंपनी का ईपीएस मार्च 2022 में बढ़कर ₹68.8 हो गया, जो मार्च 2021 में ₹15.6 था। दूसरी तरफ तेल और गैस उद्योग कोविड महामारी और बढ़ते रूस-यूक्रेन युद्ध से बहुत अधिक प्रभावित हुआ है। अंतर्राष्ट्रीय ऊर्जा एजेंसी (IEA) की इंडियन एनर्जी आउटलुक रिपोर्ट के अनुसार, भारत में कच्चे तेल की मांग 2019 में 242 MMT से बढ़कर 2040 तक 411 MMT हो जाने की उम्मीद है। कच्चे तेल की मांग बढ़ने से इस कंपनी को भविष्य में भारी निवेश का फायदा मिल सकता है।

यह भी पढ़ें- अब हेल्थकेयर सेक्टर में एंट्री करेंगे गौतम अडानी, 4 अरब डॉलर निवेश की तैयारी में अडानी ग्रुप

भारत में, विशेष रूप से तमिलनाडु राज्य और अन्य राज्यों में अपेक्षित बढ़ती ऊर्जा जरूरतों को पूरा करने के लिए, सीपीसीएल तमिलनाडु में कावेरी बेसिन में नागापट्टिनम में 9.0 एमएमटीपीए रिफाइनरी स्थापित करने की योजना बना रहा है। इन सबका असर कंपनी के शेयरों पर भी पड़ने की संभावना है इससे शेयर प्राइस बढ़ सकते हैं।

RELATED ARTICLES

Most Popular