HomeShare Marketडॉलर के मुकाबले गिरता रुपया बढ़ाएगा आपकी मुश्किलें, उत्पादन की लागत बढ़ने...

डॉलर के मुकाबले गिरता रुपया बढ़ाएगा आपकी मुश्किलें, उत्पादन की लागत बढ़ने से बढ़ेगी महंगाई

रुपए में आई ताजा गिरावट का असर तमाम क्षेत्रों के आयात में देखने को मिलेगी। आयात अब महंगा हो जाएगा इससे न सिर्फ देश का चालूखाता घाटा बढ़ेगा बल्कि रुपया इसी तरह गिरता रहा तो कारोबारियों की लागत में भी इजाफा होगा। फिक्की की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक देश में 48 फीसदी कारोबारियों ने देश में उत्पादन की लागत में 10 फीसदी से ज्यादा बढ़त की बात मानी है।

रुपए के गिरावट के नए स्तर पर पहुंचने के बाद विशेषज्ञों को लगता है कि इसका असर तमाम कमोडिटी के आयात पर पड़ेगा और उसी के साथ उससे बनने वाला उत्पाद भी प्रभावित होगा। भारत बड़े पैमाने पर जरूरी चीजों जैसे कच्चा तेल, इस्पात, पाम आयल और दवाओं का आयात करता है। ऐसे में इन सभी चीजों के लिए पहले के मुकाबले ज्यादा कीमत चुकानी होगी।

विशेषज्ञों की राय

इंडिया इंफोलाइन कमोडिटीज के वाइस प्रेसिडेंट अनुज गुप्ता ने हिंदुस्तान को बताया है कि देश में आयात महंगा होने से इन चीजों के दाम भी आने वाले दिनों में बढ़ जाएंगे साथ ही देश का चालू खाता घाटा भी बढ़ना तय है।

वहीं आर्थिक मामलों के विशेषज्ञ योगेंद्र कपूर ने रुपए की गिरावट की वजह बताते हुए कहा कि भारतीय शेयर बाजार से लगातार विदेशी फंड वापस उन देशों में जा रहा है। यही वजह है कि बाजार में भी उतारचढ़ाव बना हुआ है और रुपया भी कमजोर हो रहा है। उनके मुताबिक रुपए के कमजोर होने से भारत के आयात और व्यापार संतुलन पर असर पड़ता है जो पहले से ही आपूर्ति श्रृंखला व्यवधान के कारण ऊंची महंगाई के तौर पर दिखाई दे रहा है।

संबंधित खबरें

महंगाई से बढ़ी लागत

फिक्की के बिजनेस कॉन्फिडेंस सर्वे में कारोबारियों ने ये बात मानी है कि ऊंचे कमोडिटी के दामों और लागत की वजह से कारोबार पर दबाव देखा जा रहा है। उनका ये भी कहना है कि भू-राजनीतिक तनाव में हालिया बढ़त से काफी अनिश्चितता पैदा हो गई है। रुपए की गिरावट से इसपर दबाव और बढ़ेगा। इससे न सिर्फ कारोबारियो के मुनाफे पर दबाव दिखेगा बल्कि निर्यात के मोर्चे पर भी दूसरे देशों के साथ प्रतिस्पर्धा करने में दिक्कत होगी।

LPG Price Today: मोदी सरकार में कितना बढ़ा एलपीजी सिलेंडर का दाम, देखें 2014 से अब तक के रेट

सर्वे में करीब 84 फीसदी कंपनियों ने माना है कि कच्चे माल की ऊंची लागत कारोबार के लिए बड़ी बाधा है। पिछले दौर के सर्वे में ये आंकड़ा 82 फीसदी था। इनमें से 48 फीसदी का मानना है कि उत्पादन की लागत 10 फीसदी से ज्यादा है। वहीं 43 फीसदी के मुताबिक ये 5-10 फीसदी बढ़ी है। वहीं बाकी बचे 9 फीसदी मानते हैं कि ये लागत 5 फीसदी तक बढ़ी है। रुपए में अगर ये गिरावट आगे भी जारी रही तो इन कारोबारियों की मुश्किल और बढ़ सकती है।

RELATED ARTICLES

Most Popular