HomeShare Marketछोटे शहरों के कारोबारियों को मिला बड़ा प्लैटफॉर्म, जीईएम पोर्टल पर खरीदारी...

छोटे शहरों के कारोबारियों को मिला बड़ा प्लैटफॉर्म, जीईएम पोर्टल पर खरीदारी का आंकड़ा एक लाख करोड़ के पार

सरकारी खरीद से जुड़े ऑनलाइन पोर्टल गवर्नमेंट ई मार्केट प्लेस यानी जीईएम की ऑर्डर वैल्यू एक लाख करोड़ रुपये के पार हो गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक ट्वीट में इस पोर्टल की उपलब्धि का जिक्र करते हुए कहा कि यह जानकार खुशी हुई कि जीईएम इंडिया ने एक साल में ही एक लाख करोड़ रुपये मूल्य का ऑर्डर हासिल किया। यह पिछले वर्षों की तुलना में बहुत बड़ी वृद्धि है। उन्होंने कहा कि जीईएम मंच खास तौर पर एमएसएमई इकाइयों को मजबूत कर रहा है क्योंकि 57 फीसदी ऑर्डर मूल्य एमएसएमई क्षेत्र से ही आ रहा है।

वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने भी इस मौके पर जीईएम से जुड़े सभी हितधारकों को बधाई दी है। उन्होंने कहा कि आत्मनिर्भर भारत के विजन में अपना योगदान दे रहे सभी हितधारकों खास तौर पर छोटे और मझोले उद्योग से जुड़े कारोबारी, महिला कारोबारी और स्टार्टअप के साथ साथ इस पोर्टल के जरिए अपना सामान बेचने वाले तमाम बुनकर और कारीगरों का इस लक्ष्य तक पहुंचने में अतुल्य योगदान रहा है।

2016 में हुई थी इसकी शुरुआत

इस पोर्टल की शुरुआत केंद्र सरकार की तरफ से सरकारी खरीद के मकसद से वर्ष 2016 में की गई थी। बाद में इसका दायरा बढ़ता चला गया। अब केंद्र और राज्य सरकारों समेत सभी सरकारी दफ्तरों के लिए जरूरी सामान की खरीद इसी पोर्टल के जरिए की जाने लगी है।

Petrol Diesel Price Today: राहत के बाद फिर आफत, पेट्रोल 114.75 और डीजल  97.73 रुपये लीटर

इस पोर्टल से देश के 40 लाख से ज्यादा विक्रेता जुड़े हैं जो सीधे सरकारी विभागों को अपने उत्पाद बेच सकते हैं। अलग-अलग जगहों से कुल 52.76 लाख उत्पाद यहां बिक्री के लिए रजिस्टर्ड हैं। लॉन्च से अब तक इस पोर्टल के जरिए करीब सवा दो लाख करोड़ रुपये का कारोबार हो चुका है।

छोटे शहरों के कारोबारियों को मिला बड़ा प्लैटफॉर्म

सरकार का लक्ष्य तमाम छोटे कारोबारियों को डिजिटल प्लैटफॉर्म से जोड़ते हुए उन्हें एक पक्का बाजार मुहैया कराना रहा है। यही वजह है कि इस पोर्टल के जरिए देश की छोटी-छोटी जगहों से कारीगरों, बुनकरों और विक्रेताओं जिनमें महिला कारोबारी भी शामिल हैं, को ये प्लेटफॉर्म दिया गया है। इसके जरिए उन्हें अपने उत्पादों की बिक्री के लिए बड़ा बाजार मिल जाता है। साथ ही सरकारी खरीद में भी पारदर्शिता बनी रहती है।

RELATED ARTICLES

Most Popular