HomeShare Marketगौतम अडानी की बड़ी तैयारी, इस सेक्टर में लगाएंगे 41000 करोड़ रुपये,...

गौतम अडानी की बड़ी तैयारी, इस सेक्टर में लगाएंगे 41000 करोड़ रुपये, मिली सरकार की मंजूरी

एशिया के सबसे अमीर व्यक्ति गौतम अडानी (Gautam Adani) एक के बाद एक नए सेक्टर इंवेस्टमेंट कर रहे हैं। अब अडानी एंटरप्राइजेज के नए निवेश के प्लान को लेकर बड़ी खबर आई है। अडानी समूह (Adani Group) की कंपनी अडानी एंटरप्राइजेज (Adani Enterprises) उड़ीसा में एल्यूमिना रिफाइनरी प्लांट लगाने की योजना बना रही है। राज्य की नवीन पटनायक (Naveen Patnaik) सरकार की तरफ से अडानी समूह के इस प्लांट को मंजूरी दे दी गई है। हालांकि, इस पूरे मसले पर अडानी एंटरप्राइजेज ने किसी बयान से इनकार किया है। 

41000 हजार करोड़ रुपये का होगा इंवेस्टमेंट

अडानी समूह को राज्य सरकार ने रायगडा जिले में यह रिफाइनरी लगाने की मंजूरी दी है। यह पूरा प्रोजेक्ट 41000 हजार करोड़ रुपये या फिर 5.2 अरब डाॅलर में पूरा होने की उम्मीद है। सरकार की तरफ से दी गई जानकारी के अनुसार इस प्लांट की कुल क्षमता 4 मिलियन टन की होगी। 

यह भी पढ़ेंः सरकार के इस नए ऐलान के बाद उड़ान भरने लगे Indigo और SpiceJet के शेयर, चेक करें डिटेल्स

गौतम अडानी ने दिसंबर 2021 में मुंद्रा एल्युमिनियम लिमिटेड (Mundra Aluminium Limited) कंपनी बनाई थी। इस कंपनी से उनकी योजनाओं का साफ अंदाजा लगाया जा सकता है। इस सेक्टर में फिलहाल आदित्य बिड़ला समूह और लंदन की वेदांता रिसोर्सेज लिमिटेड जैसी कंपनियों का दबदबा है। 126 अरब डाॅलर की संपत्ति के मालिक गौतम अडानी बहुत तेजी के साथ पोर्ट्स और एग्री ट्रेडिंग के बाद एयरपोर्ट, रेन्यूबल एनर्जी डेटा सेंटर जैसे सेक्टर में निवेश कर रहे हैं और अपना दबदबा बना रहे हैं। 

रातों-रात बन गए थे सीमेंट इंडस्ट्री के बड़े प्लेयर

सीमेंट कारोबार की दुनिया में अडानी समूह ने रातों-रात जिस तरह Holcim लिमिटेड को खरीद कर उस सेक्टर के बड़े प्लेयर बन गए हैं। ठीक वैसे ही उनकी नजर अन्य सेक्टर्स पर भी टिकी हुई है। बता दें, अडानी समूह ने एक साल पहले सीमेंट की सब्सिडरी कंपनी बनाई थी। अब उनकी नजर मेटल सेक्टर पर टिकी हुई हैं। इस साल के शुरुआत में स्टील और काॅपर प्लांट को लेकर की गई उनकी घोषणाएं इसी ओर इशारा कर रही हैं। 

जून 2022 में अडानी समूह ने 60.7 अरब डाॅलर का लोन इकट्ठा किया था। इस फंड के जरिए कंपनी गुजरात में 5 हजार टन का काॅपर रिफाइनरी काॅमप्लेक्स बनाएगी। इसके अलावा कंपनी ने जनवरी में साउथ कोरिया की दिग्गज स्टील उत्पादक कंपनी पोस्को के साथ साझेदारी का ऐलान किया था। दोनों कंपनियां मिलकर भारत में स्टील की संभावनाओं को तलाश रही हैं। ऐसे में कहना गलत नहीं होगा कि बहुत तेजी के साथ वो अपने बिजनेस का विस्तार कर रहे है। 

स्टोरी क्रेडिटः लाइव मिंट 

RELATED ARTICLES

Most Popular