HomeShare Marketकेमिकल प्रोजेक्ट के लिए मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस ने इस विदेशी...

केमिकल प्रोजेक्ट के लिए मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस ने इस विदेशी कंपनी के साथ की 2 अरब डॉलर की डील

मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस (Mukesh ambani RIL) और अबु धाबी की केमिकल कंपनी ताज़ीज़ के बीच डील 2 अरब डॉलर की डील हुई है। अबू धाबी केमिकल्स डेरिवेटिव्स कंपनी आरएससी लिमिटेड (TA’ZIZ) और रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (RIL) ने TA’ZIZ EDC और PVC परियोजना के लिए औपचारिक शेयरधारक समझौते पर हस्ताक्षर किए। यह शेयरधारक समझौता 2 अरब डॉलर का है। 

क्या है यह डील
ताज़ीज़ EDC और PVC संयुक्त इंडस्ट्री क्लोर-अल्कली, एथिलीन डाइक्लोराइड (EDC) और पॉलीविनाइल क्लोराइड (PVC) के प्रोडक्शन सुविधा का निर्माण करने के साथ उनका संचालन भी करेगा। संयुक्त अरब अमीरात में पहली बार इस तरह के केमिकल्स का उत्पादन किया जाएगा। जिससे स्थानीय निर्माताओं के लिए राजस्व के नए रास्ते खुलेंगे।

यह भी पढ़ें- अडानी विल्मर ने रचा इतिहास, लिस्टिंग के 3 महीने में ही ₹1 लाख करोड़ की हुई कंपनी, निवेशकों को 263% रिटर्न

संबंधित खबरें

रिलायंस के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक मुकेश अंबानी ने एडीएनओसी मुख्यालय की यात्रा के दौरान औपचारिक शेयरधारक समझौते पर हस्ताक्षर किए गए थे। अंबानी ने यूएई के इंडस्ट्री एंड एडवांस टेक्नोलाॅजी मंत्री और एडीएनओसी के प्रबंध निदेशक और समूह के सीईओ महामहिम डॉ. सुल्तान अल जाबेर से मुलाकात की और हाइड्रोकार्बन वैल्यू चेन, न्यू एनर्जी और डीकार्बोनाइजेशन में साझेदारी और विकास के अवसरों पर चर्चा की। .

यह भी पढ़ें- ₹4100 पर जाएगा राकेश झुनझुनवाला का ये फेवरेट स्टॉक, अभी दांव लगाने पर बड़ा मुनाफा, एक्सपर्ट ने कहा- खरीदो

मुकेश अंबानी ने कहा
मुकेश अंबानी ने कहा, “रिलायंस इंडस्ट्रीज और TA’ZIZ के संयुक्त उद्यम की तेज प्रगति देख कर मैं खुश हूं। यह संयुक्त उद्यम भारत और संयुक्त अरब अमीरात के बीच मजबूत संबंधों का गवाह है। अनुमान है कि TA’ZIZ परिसर भारत और संयुक्त अरब अमीरात के बीच मुक्त व्यापार समझौते से लाभान्वित होगा, जिस पर इस वर्ष फरवरी में हस्ताक्षर किए गए थे। इससे दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय व्यापार को बढ़ावा मिलेगा।“
डॉ. अल जाबेर ने कहा, “रिलायंस एक महत्वपूर्ण रणनीतिक साझेदार है और TA’ZIZ में हमारा सहयोग संयुक्त अरब अमीरात और भारत के बीच गहरे और मैत्रीपूर्ण संबंधों को और मजबूत बनाएगा। यह औद्योगिक और ऊर्जा सहयोग में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। 

RELATED ARTICLES

Most Popular