HomeShare Market..और बेहतर होगा टाटा का ये कारोबार! अंबानी-बेजोस को कड़ी टक्कर देने...

..और बेहतर होगा टाटा का ये कारोबार! अंबानी-बेजोस को कड़ी टक्कर देने के लिए टाटा ग्रुप बना रहा बड़ा प्लान 

टाटा समूह (Tata group) की होल्डिंग कंपनी टाटा संस (Tata sons) कुछ फर्मों से थोड़ी बहुत हिस्सेदारी बेचकर ग्लोबल प्राइवेट इक्विटी फर्मों और स्ट्रैटेजिक इंवेस्टर्स से फंड जुटाने के विकल्पों का विचार कर रही है। कंपनी ऐसा इसलिए करना चाहती है ताकि ई-कॉमर्स (E-Commerce) और क्लीन एनर्जी (Energy) जैसे नए कारोबार को विस्तार किया जा सके। 

5,000 करोड़ जुटाना चाह रहा टाटा ग्रुप
टाटा ग्रुप शुरुआत में टाटा कंज्यूमर प्रोडक्ट्स लिमिटेड, टाटा पावर और टाटा रियल्टी एंड इंफ्रास्ट्रक्चर समेत समूह की कंपनियों में संभावित हिस्सेदारी बिक्री के माध्यम से कम से कम 5,000 करोड़ जुटाना चाह रहा है। सूत्रों ने नाम न छापने की शर्त पर कहा, “टाटा ग्रुप टाटा की अलग-अलग कंपनियों में प्रेफरेंशियल अलॉटमेंट के जरिए या फिर अगले छह महीनों में प्रमोटर हिस्सेदारी की बिक्री के माध्यम से नए जारी करने के माध्यम से पूंजी जुटाने की तैयारी में है।” 

यह भी पढ़ें- टाटा ग्रुप का यह दमदार शेयर आज ऑल टाइम हाई पर पहुंचा, इस रिपोर्ट के बाद अचानक बढ़ गई खरीदारी

संबंधित खबरें

क्या है टाटा का उद्देश्य
सूत्रों ने कहा कि प्रस्तावित फंड जुटाने का मकसद खासकर ग्रुप के महत्वाकांक्षी टाटा डिजिटल प्रोजेक्ट टाटान्यू सुपर-ऐप (TataNeu super-app) वेंचर में निवेश के लिए किया जाएगा। पिछले हफ्ते एक नियामक फाइलिंग में टाटा कंज्यूमर प्रोडक्ट्स ने कहा कि उसका बोर्ड मंगलवार को बैठक करेगा जिसमें विदेशी खरीदार को अपनी चुकता इक्विटी पूंजी के 1.5% के बराबर प्रेफरेंशियल शेयर जारी करके फंड जुटाने पर विचार किया जाएगा।  सूत्रों ने यह भी कहा कि संभावित निवेशकों के तौर पर टाटा ग्रुप ने गोल्डमैन सैक्स और जेपी मॉर्गन से  कॉन्टैक्ट किया है। सूत्रों के मुताबिक कहा गया है कि फंड जुटाने की प्रक्रिया कई चरणों में पूरी की जाएंगी। हालांकि, इस मामले पर टाटा संस के प्रवक्ता ने कुछ भी कहने से इनकार कर दिया है।

कर्ज कम करने के लिए भी यूज होंगे फंड 
नियोजित फंड जुटाने का एक हिस्सा टाटा समूह के कर्ज को कम करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। फंड का इस्तेमाल टाटा संस के नए वेंचर की कार्यशील पूंजी की जरूरतों को देखते हुए किया जा सकता है। इसमें एयरलाइन कंपनी एयर इंडिया, रिन्यूएबल एनर्जी कारोबार और टाटा का सुपर-ऐप शामिल हैं। 

यह भी पढ़ें- क्या आपने भी बाबा रामदेव की रुचि सोया FPO में लगा दिया पैसा? अब बोली वापस लेने के लिए सेबी दे रहा मौका

पूरा फोकस TataNeu पर 
टाटा अपने ई-कॉमर्स बिजनेस को और मजबूत करना चाहता है, जिसमें TataNeu भी शामिल है। इसे पहले ही टाटा समूह के कर्मचारियों के लिए एक सॉफ्ट-लॉन्च दिया गया है और चल रहे इंडियन प्रीमियर लीग के दौरान बड़े स्तर पर लोगों के लिए आधिकारिक तौर पर लॉन्च करने की योजना बनाई जा रही है। 
सूत्रों ने कहा कि निवेशकों से इक्विटी पूंजी जुटाने से टाटान्यू पहल को मजबूत करने और डिजिटल स्पेस में अच्छी तरह से फाइनेंशियली ज्यादा मजबूत और अपने प्रतिद्वंद्वियों को चुनौती देने में मदद मिलेगी। बता दें कि टाटा ग्रुप का TataNeu ई-कॉमर्स फर्म Amazon, Walmart-Flipkart और मुकेश अंबानी की कंपनी RIL के डिजिटल प्रॉपर्टी कारोबार Jio प्लेटफॉर्म को कड़ी टक्कर दे सकता है।
 

RELATED ARTICLES

Most Popular