HomeShare Marketएक साल में दो तिहाई बढ़ गई CNG की कीमत, महंगाई की...

एक साल में दो तिहाई बढ़ गई CNG की कीमत, महंगाई की आग में जल रही कमाई

सीएनजी वाहन का इस्तेमाल करने वाले लोगों की जेब पर बोझ बढ़ने के आसार हैं। साथ ही राजधानी में फिर से माल ढुलाई की कीमतों में बढ़ोतरी की आशंका है। बीते एक वर्ष के दौरान दिल्ली में सीएनजी की दामों में 69.60 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है, जिसका असर रोजमर्रा के काम और दफ्तर आने-जाने के लिए सीएनजी वाहन का इस्तेमाल करने वाले लोगों पर पड़ा है।

पेट्रोलियम कंपनियों ने 31 दिन के बाद सीएनजी की कीमतों में दो रुपये प्रति किलोग्राम की बढ़ोतरी की है। इसके बाद दिल्ली में सीएनजी 73.61 रुपये प्रति किलोग्राम के स्तर पर पहुंच गई हैं। सीएनजी के दामों में बढ़तोरी होने से हल्के व्यावसायिक वाहन जो सीएनजी पर चलते हैं, उनसे माल ढुलाई में भी 20 फीसदी से अधिक की बढ़ोतरी हुई है।

राहत भरे 40 दिन: पेट्रोल-डीजल के नए रेट जारी, सबसे सस्ता डीजल ₹ 85.83 लीटर

महंगाई के चलते हर आय वर्ग के लोग इससे प्रभावित हो रहे हैं। पेट्रोल, डीजल के साथ घरेलू गैस सिलेंडर की कीमतें भी बीते वर्षों में बेतहाशा बढ़ोतरी हुई है। अब सीएनजी की कीमतों में बढ़ोतरी से सीधा असर जेब खर्च पर पड़ेगा। सबसे पहले उन लोगों की जेब पर असर पड़ेगा जो सामान्य जीवन में कामकाज या दफ्तर आने-जाने के लिए सीएनजी वाहन का इस्तेमाल करते हैं। इसके बाद उत्पाद की कीमतों पर भी प्रभाव पड़ेगा।

संबंधित खबरें

दिल्ली में बड़े गोदामों से दुकान तक सामान लाने के लिए प्रमुख रूप से सीएनजी वाहनों का इस्तेमाल होता है। व्यापारियों के अनुसार, मालभाड़ा बढ़ेगा तो आने वाले दिनों में सभी उत्पादों की कीमतें भी बढ़ेंगी।

इस वर्ष में अबतक 20 रुपये से अधिक बढ़े

इस वर्ष साढ़े चार महीने में सीएनजी की कीमत 20.57 रुपये प्रति किलोग्राम बढ़ी है। जनवरी में सीएनजी 53.04 रुपये प्रति किलोग्राम के स्तर पर थी जो अब बढ़कर 73.61 रुपये के स्तर पर पहुंच गई है। अप्रैल में दाम में चार बार बढ़ोतरी की गई।

दो महीने में पेट्रोल- डीजल पर बढ़े 10 रुपये प्रति लीटर

मार्च से पेट्रोल और डीजल की कीमतों में भी 10 रुपये प्रति लीटर की वृद्धि हो चुकी है। 22 मार्च को पेट्रोल 95.41 रुपये प्रति लीटर था जो अब बढ़कर 105.41 रुपये प्रति लीटर पहुंच गया है। डीजल 86.67 रुपये प्रति लीटर से बढ़कर 96.67 रुपये प्रति लीटर हो गया है। दो साल की बात करें तो पेट्रोल पर 35.82 रुपये और डीजल पर 34.38 रुपये प्रति लीटर पर बढ़ चुके हैं। इन सभी का असर है कि आटा, चायपत्ती, बिस्किट, नकमीन, शैम्पू से लेकर घर की हर जरूरत का सामान महंगा हो गया है।

ऑटो-टैक्सी का किराया बढ़ने के आसार

सीएनजी की बढ़ती कीमतों को लेकर ऑटो-टैक्सी यूनियन ने विरोध किया था, जिसके बाद सरकार ने किराया बढ़ाने के संबंध में कमेटी गठित की थी। अब कमेटी को अपनी रिपोर्ट देनी है, जिसके बाद कीमतों को बढ़ाया जाना है। संभावना है कि ऑटो-टैक्सी से सफर भी जल्द महंगा हो सकता है।

अन्य पेट्रोलियम उत्पादों के भी दाम बढ़े

सीएनजी के साथ अन्य पेट्रोलियम उत्पादों ने भी आम आदमी की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। बीते हफ्ते पेट्रोलियम कंपनियों ने घरेलू गैस सिलेंडर पर 50 रुपये की बढ़ोतरी की थी। इसके बाद दिल्ली में गैस सिलेंडर की कीमत 999.50 रुपये पहुंच गई। उससे पहले कमर्शियल गैस सिलेंडर की कीमतों में इजाफा किया गया था, जिसके बाद कमर्शियल गैस सिलेंडर 2346 रुपये का हो गया था।

RELATED ARTICLES

Most Popular