HomeShare Marketएक्सिस ने देश के निजी क्षेत्र के तीसरे सबसे बड़े बैंक कोटक...

एक्सिस ने देश के निजी क्षेत्र के तीसरे सबसे बड़े बैंक कोटक महिन्द्रा को पीछे छोड़ा, सिटी बैंक के ग्राहकों पर पड़ेगा ये असर

भारत के निजी क्षेत्र के एक्सिस बैंक ने वैश्विक दिग्गज सिटी बैंक के भारतीय कारोबार को खरीद लिया है। इस सौदे में एक्सिस ने देश के निजी क्षेत्र के तीसरे सबसे बड़े बैंक कोटक महिन्द्रा को पीछे छोड़ दिया है। इस सौदे को नियामकीय मंजूरी मिलने के बाद सिटी बैंक के ग्राहक एक्सिस बैंक के ग्राहक हो जाएंगे।

ग्राहकों पर क्या पड़ेगा असर?

सिटी बैंक में जिन ग्राहकों का बैंक खाता, क्रेडिट कार्ड है तो उनको चिंता करने की बात नहीं है। सौदे के तहत सिटी बैंक का कारोबार एक्सिस बैंक के पास चला जाएगा। क्या फिर से केवाईसी करानी पड़ेगी, इसकी जानकारी भी ग्राहकों को दी जाएगी। सिटी बैंक, एक्सिस बैंक के साथ भारतीय रिजर्व बैंक भी आपको सूचित करेगा कि आपको इस संबंध में क्या जरूरी कदम उठाने हैं।

संबंधित खबरें

क्या बिना PM Kisan eKYC के नहीं आएगी 11वीं किस्त?

बैंक अपने स्तर पर कुछ कदम उठाएगा कुछ कदम आपको उठाने होंगे, मसलन-आपने जहां-जहां अपनी किस्तों, बिलों को जमा कराने का मेनडेट दे रखा है उन्हें फिर से सूचित करना होगा। अपने ऑफिस, पीएफ दफ्तर, शेयर ब्रोकर-म्यूचुअल फंड हाउस ऐसी तमाम जगहों पर बैंक खाते से संबंधित जानकारी का संशोधन करवाना होगा। इस काम के लिए आपको वक्त मुहैया करवाया जाएगा।

बैंकिंग विशेषज्ञों का कहना है कि इस अधिग्रहण के साथ सिटी बैंक के ग्राहकों को अब नए चेक लेने होंगे। साथ ही उन्हें म्यूचुअल फंड, होम लोन और अन्य तरह के कर्ज की ईएमआई के लिए नए ईसीएस मंजूरी की जरूरत होगी। ऐसा होने पर उनकी ईएमआई में चूक की गुंजाइंश नहीं रहेगी। साथ ही निवेश की राशि भी खाता से सही समय पर कटती रहेगी।

अप्रैल से बदल जाएंगे आपके Income Tax से जुड़े यह सात नियम

एक्सिस बैंक ने एक बयान में कहा कि यह सौदा एक प्रमुख वित्तीय सेवा ब्रांड बनने की दिशा में अपनी यात्रा जारी रखने में मददगार होगा। व्यापक तौर पर पेश किए जाने वाले ऑफर्स, विविध उत्पादों के पोर्टफोलियो और दुनियाभर में सर्वोत्तम समझी जाने वाली सेवाएं से ग्राहकों का अनुभव और बेहतर हो सकेगा। साथ ही, राजस्व और लागत दोनों पक्षों में अधिक तालमेल से कारोबार के विस्तार में भी मदद मिलेगी।

 

एक्सिस बैंक के एमडी और सीईओ अमिताभ चौधरी कहते हैं कि यह एक्सिस के विकास और नेतृत्व की यात्रा में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है और सभी हितधारकों को इससे बहुत अधिक फायदा होगा। सिटी के कर्मचारियों की विशेषज्ञता को देखते हुए, हम उन्हें अपनी मौजूदा टीम के लिए एक महत्वपूर्ण और अतिरिक्त कार्यबल के रूप में देखते हैं।

एक्सिस बैंक को होगा यह लाभ

31 मार्च 2021 तक सिटी के पास भारत में ₹68,747 करोड़ के लोन और ₹1.66 खरब की जमा राशि थी। सिटीबैंक के इंडिया कंज्यूमर बिजनेस के कर्मचारियों को भी एक्सिस बैंक को ट्रांसफर कर दिया जाएगा। देशभर में सिटी बैंक की करीब 35 ब्रांच हैं। इनमें लखनऊ, अहमदाबाद, औरंगाबाद, बेंगलुरु, चंडीगढ़, फरीदाबाद, गुरुग्राम, जयपुर, कोच्चि, कोलकाता, मुंबई, नागपुर, नासिक, नई दिल्ली, पुणे, हैदराबाद और सूरत जैसे शहरों की ब्रांच शामिल हैं।

सिटीग्रुप ने पिछले साल किया था एलान

पिछले साल अप्रैल में सिटीग्रुप ने कहा था कि वह भारत सहित 13 देशों में कंज्यूमर कारोबार से बाहर निकल जाएगा। भारत के अलावा यह बैंक ऑस्ट्रेलिया, बहरीन, चीन, इंडोनेशिया, कोरिया, मलेशिया, फिलीपींस, पोलैंड, रूस, ताइवान, थाईलैंड और वियतनाम में रिटेल कारोबार से बाहर निकलने का फैसला किया था। सिटी बैंक सिंगापुर, हांगकांग, संयुक्त अरब अमीरात और लंदन में चार फंड केंद्रों पर केंद्रित है। कंपनी अब अपना फोकस बड़े और आकर्षक संस्थागत और वेल्थ मैनेजमेंट बिजनेस पर बढ़ाएगी। सिटी बैंक के भारतीय कंज्यूमर बिजनेस में क्रेडिट कार्ड्स, होम लोन और रिटेल बैंकिंग शामिल हैं।

RELATED ARTICLES

Most Popular