HomeShare Marketइस बैंक के मैनेजमेंट में बवंडर, शेयरहोल्डर्स ने CEO पर लगाया बड़ा...

इस बैंक के मैनेजमेंट में बवंडर, शेयरहोल्डर्स ने CEO पर लगाया बड़ा आरोप

प्राइवेट सेक्टर के धनलक्ष्मी बैंक के मैनेजमेंट में तूफान आ गया है। दरअसल, बैंक के एमडी और सीईओ शिवन जेके के पर कतरने के लिए कुछ शेयरधारकों ने असाधारण आम बैठक (ईजीएम) बुलाई है। बीएसई को दी जानकारी में बैंक ने बताया है कि लगभग 13% की हिस्सेदारी वाले नौ शेयरधारकों के एक समूह ने यह बैठक बुलाई है। 

12 नवंबर को बैठक: ये शेयरधारक बैठक में शिवन जेके की शक्तियों को कमजोर करने के अलावा दो अन्य निदेशकों को अधिकृत करने का प्रस्ताव रखेंगे। बैठक की तिथि 12 नवंबर निर्धारित की गई है। आपको बता दें कि बैंक में लगभग 13% की हिस्सेदारी वाले शेयरधारकों में अरबपति बी रवींद्रन पिल्लई भी शामिल हैं, जिनकी  9.99% हिस्सेदारी है।

बैंक का क्या कहना है: हालांकि, बैंक का कहना है कि उसने कानूनी राय ली है। बैंक ने कहा- हम बैठक के लिए बाध्यकारी हैं लेकिन शेयरधारक एमडी और सीईओ की शक्तियों पर बेड़ियां नहीं लगा सकते हैं। सिर्फ केंद्रीय बैंक आरबीआई के पास सीईओ की शक्तियों पर अंकुश लगाने का अधिकार है। 

दिक्कत क्या है: शेयरधारकों ने सीईओ शिवन जेके के खर्च के तरीकों पर सवाल खड़े किए हैं। शेयरधारकों के मुताबिक बैंक पर टालने योग्य मुकदमों के लिए हाई कॉस्ट वकीलों को लिए जाने की बात हो या नए कर्मियों की भर्ती के लिए भारी प्रोत्साहन का दावा करना, हर जगह बेहिसाब खर्चे किए गए। बैंक की नई शाखाएं खोलने में भी खर्च ज्यादा किए गए हैं। 

ये पढ़ें-एक अपडेट से 7% उछला ये स्टॉक, IPO से निवेशकों को हो चुकी है बंपर कमाई

शेयरधारकों का आरोप है कि धनलक्ष्मी बैंक एक छोटे से बोर्ड के साथ चल रहा है। इसमें एमडी के अलावा सिर्फ दो निदेशक हैं। बैंक ने अगस्त 2020 से एक नया निदेशक नियुक्त नहीं किया है। शेयरधारकों ने यह भी आरोप लगाया है कि सीईओ बैंक में निदेशकों की नियुक्ति को लेकर शेयरधारकों के साथ लंबित कानूनी विवाद को निपटाने के लिए कोई पहल करने में विफल रहे हैं। शेयरधारकों के मुताबिक बैंक को पूंजी की बुरी तरह से जरूरत है। शेयरधारकों को पूंजी बढ़ाने की किसी भी योजना के बारे में नहीं बताया गया है, बल्कि अंधेरे में रखा गया।

ये पढ़ें-तेजी से बढ़ रहा था ड्रोन बनाने वाली कंपनी का शेयर, BSE को सफाई देते ही डूबे पैसे

पहले भी हो चुका विवाद: बता दें कि पहले भी धनलक्ष्मी बैंक के मैनेजमेंट में इस तरह का विवाद हो चुका है। बैंक के पूर्व सीईओ सुनील गुरबक्सानी सितंबर 2020 में एक शेयरधारक से मनमुटाव की वजह से बाहर हो गए थे। इसके बाद शिवन जेके को सीईओ के रूप में नियुक्त किया गया था। शिवन पहले भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) में काम कर चुके थे।

RELATED ARTICLES

Most Popular