HomeShare Marketअनिल अंबानी की कंपनी की खुली ट्रेडिंग, शेयर में लगा अपर सर्किट,...

अनिल अंबानी की कंपनी की खुली ट्रेडिंग, शेयर में लगा अपर सर्किट, NCLAT ने दिया ये बड़ा आदेश

ऐप पर पढ़ें

नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (NCLAT) ने रिलायंस कैपिटल (Reliance Capital- Rcap) के समाधान  के मामले में लेंडर्स  की नीलामी की एक और दौर की याचिका को स्वीकार कर लिया है। कर्ज में डूबी रिलायंस कैपिटल फिलहाल दिवाला प्रक्रिया में है। बता दें कि इस खबर के बाद रिलायंस कैपिटल के शेयर 5% तक चढ़ गए। कंपनी के शेयर अपर सर्किट में हैं। इसका शेयर प्राइस 9.09 रुपये पर आ गया। 

एनसीएलएटी ने राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण (एनसीएलटी) के आदेश को खारिज करते हुए कहा कि ऋणदाताओं की समिति (सीओसी) के पास ऊंची बोली के प्रयास करने का अधिकार है। अपीलीय न्यायाधिकरण ने सीओसी को चुनौती तंत्र को जारी रखने और दो सप्ताह बाद बोलियां आमंत्रित करने की अनुमति दी है।

सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर अडानी ने किया रिएक्ट, बोले- वक्त के साथ सामने आएगा सच

एनसीएलएटी का आदेश क्या है?
एनसीएलएटी ने यह आदेश विस्ट्रा आईटीसीएल (इंडिया) लि. की याचिका पर दिया है। विस्ट्रा अनिल अंबानी प्रवर्तित कंपनी के ऋणदाताओं में से है। याचिका में एनसीएलटी के उस आदेश को चुनौती दी गई थी जिसमें दिवालिया कंपनी के लिए और नीलामी पर रोक लगाई गई थी। 

रिलायंस कैपिटल के मामले में टॉरेंट इन्वेस्टमेंट्स ने 8,640 करोड़ रुपये की सबसे ऊंची बोली लगाई थी। हालांकि, कंपनी की ऋणदाताओं की समिति ने दूसरा चुनौती तंत्र चलाने का फैसला किया। उसके बाद हिंदुजा समूह की कंपनी इंडसइंड इंटरनेशनल होल्डिंग्स लि. (आईआईएचएल) ने संशोधित बोली जमा कराई। 

अडानी के बाद मुश्किल में घिरे यह दिग्गज कारोबारी, रेटिंग एजेंसी अलर्ट, जानिए कितना बड़ा है संकट​​​​​​​

कंपनी पर 40,000 करोड़ रुपये का कर्ज
टॉरेंट इन्वेस्टमेंट्स ने एनसीएलटी की मुंबई पीठ के समक्ष इसे चुनौती दी। एनसीएलटी ने दो फरवरी को कहा कि वित्तीय बोली के लिए चुनौती व्यवस्था या तंत्र 21 दिसंबर, 2022 को पूरा हो गया है। इसके बाद टॉरेंट इन्वेस्टमेंट्स ने नौ जनवरी को नई याचिका दायर कर न्यायाधिकरण से ऋणदाताओं की नए सिरे से नीलामी की योजना पर रोक लगाने की अपील की। बाद में आईआईएचएल ने भी एक याचिका दायर कर एनसीएलटी के आदेश को चुनौती दी।  आईआईएचएल ने एनसीएलटी के आदेश के खिलाफ अपीलीय न्यायाधिकरण में अपील की। समाधान प्रक्रिया से गुजर रही रिलायंस कैपिटल पर कुल 40,000 करोड़ रुपये का कर्ज है।

RELATED ARTICLES

Most Popular