HomeShare Marketअडानी का नाम जुड़ते ही ₹14 का शेयर बना रॉकेट, दिया 160%...

अडानी का नाम जुड़ते ही ₹14 का शेयर बना रॉकेट, दिया 160% का रिटर्न, लगातार 35 दिन से लग रहा अपर सर्किट

Multibagger penny stock: पिछले कुछ महीनों में भारतीय शेयर बाजार में भारी बिकवाली के दबाव के बावजूद कुछ शेयरों ने इस अवधि में शानदार प्रदर्शन किया है। कोहिनूर फूड्स के शेयर (Kohinoor Foods Ltd) उनमें से एक हैं। इस पेनी स्टॉक ने लगातार 35 ट्रेडिंग सेशंस में अपर सर्किट को हिट किया है। करीब दो महीनों में यह मल्टीबैगर पेनी स्टॉक ₹7.75 से बढ़कर ₹38.40 प्रति स्तर हो गया है। इस अवधि में लगभग 395 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई। 

कोहिनूर फूड्स के शेयर प्राइस हिस्ट्री
पिछले एक महीने में यह मल्टीबैगर पेनी स्टॉक ₹14.85 से ₹38.40 के स्तर तक बढ़ गया है, इस अवधि में लगभग 160 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। पिछले दो महीनों में यह मल्टीबैगर स्टॉक 7.75 रुपये से बढ़कर 38.40 रुपये के स्तर पर पहुंच गया है, इस अवधि में लगभग 395 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। स्टॉक पिछले एक साल से बंद था और इस पेनी स्टॉक में ट्रेडिंग की शुरुआत के बाद अब यह नियमित आधार बढ़ रहा है। 

यह भी पढ़ें- अडानी ग्रुप की कंपनी ने इस ड्रोन स्टार्टअप में खरीदी 50% की हिस्सेदारी, जानिए क्या है डील?

निवेशक पर प्रभाव
कोहिनूर फूड्स के शेयर प्राइस हिस्ट्री के मुताबिक, अगर किसी निवेशक ने एक महीने पहले इस स्टॉक में ₹1 लाख का निवेश किया होता, तो उसका ₹1 लाख आज ₹2.60 लाख हो जाता। इसी तरह अगर एक निवेशक ने दो महीने पहले इस मल्टीबैगर पेनी स्टॉक में ₹7.75 प्रति शेयर के हिसाब से ₹1 लाख का निवेश किया होता तो उसका ₹1 लाख आज ₹4.95 लाख हो गया होगा। 

संबंधित खबरें

कोहिनूर फूड्स लिमिटेड की वर्तमान मार्केट कैप ₹142.35 करोड़ है और इसकी समाप्ति शुक्रवार को 9,978 के व्यापार की मात्रा के साथ हुई। पिछले 20 दिनों में इस मल्टीबैगर पेनी स्टॉक का औसत वॉल्यूम 8787 है। कोहिनूर फूड्स के शेयर की कीमत इस समय 38.40 रुपये है, जो इसका 52-सप्ताह का उच्च स्तर भी है। इसका 52-सप्ताह का निचला स्तर ₹7.75 है।

कंपनी के साथ जुड़ा अडानी का नाम
इस महीने की शुरुआत में अडानी विल्मर लिमिटेड (AWL) ने मैककॉर्मिक स्विट्जरलैंड जीएमबीएच से दिग्गज कोहिनूर ब्रांड सहित कई ब्रांडों के अधिग्रहण की घोषणा की थी। कंपनी ने एक बयान में कहा था कि इस अधिग्रहण से एडब्ल्यूएल को भारत में कोहिनूर ब्रांड के तहत रेडी टू कुक, रेडी टू ईट, करी और खाद्य पोर्टफोलियो के साथ कोहिनूर बासमती चावल ब्रांड पर विशेष अधिकार मिल जाएगा। कोहिनूर के घरेलू ब्रांड पोर्टफोलियो से FMCG कैटेगरी में एडब्ल्यूएल की स्थिति मजबूत होगी। इस अधिग्रहण से एडब्ल्यूएल चावल और अन्य खाद्य व्यवसायों में अधिक उत्पादों की पेशकश कर सकेगी। इस खबर के बाद से ही कोहिनूर फूड्स के शेयरों में जबरदस्त तेजी देखी जा रही है।

यह भी पढ़ें- पेट्रोल-डीजल की नई कीमतें जारी, गाड़ी की टंकी फुल कराने से पहले फटाफटा जान लें लेटेस्ट रेट्स 

काफी बड़ा है कोहिनूर फूड्स का कारोबार
कोहिनूर फूड्स फूड प्रोडक्ट्स के निर्माण, व्यापार और मार्केटिंग के व्यवसाय में लगा हुआ है। कंपनी दुनिया भर में ग्राहकों की जरूरतों को पूरा करने के लिए एक बड़े स्तर पर सप्लाई चेन की सुविधा प्रदान कर रही है। कोहिनूर फूड्स के पास बासमती चावल के अलग अलग वैरायटीज से लेकर, खाने के लिए तैयार करी, रेडीमेड ग्रेवी, कुकिंग पेस्ट, चटनी, मसाले और सीज़निंग से लेकर फ्रोजन ब्रेड, स्नैक्स, स्वस्थ अनाज, और खाद्य तेल का कारोबार कर रही है

RELATED ARTICLES

Most Popular